ALONE HINDI POEM

Latest Alone Hindi Poem


mera-mann-tu-kyu-akela-hai-status-dairy
मेरा मन, तू क्यों अकेला है ?

संध्या की बेला है …
लहरों की शोर है …
समुंदर की गहराइ है…
मेरा मन, तू अकेला है …

आसमन की लाली छाई है…
चुप चाप बैठा हूं…
खुदा से रूठा हूं …
ऐ मन बस मैं ही तम्हारे पास हूं …

इक हस्ती बनके निकला था…
खुब पैसे कमाने निकला था…
आधि दूर भी आ गया हूं …
फ़िर भी उदास बैठा हूं…

आगे मे तन्हाई है…।
पीछे में परछाई है …
सही गलत समज रहा हूं …
इसलिए चुप चुप बैठा हूं …

ख़ुशियां बटोर रहा था…
आगे आगे बढ़ रहा था…
अपनो की याद आ गई…
इसलिए बैठा हूं …

अन्धेरा हो चुकी है …
असमंजस में हूं …
आगे जाऊं या पीछे …
इस बात से रूठा हूं…

कोइ वजाह नहीं दिखती …
कोइ गलत नहीं लगता…
फिर क्यूँ दिल की साली…
मन का मेरा बगीचा कहां है …

रंगिन फूलन से रूठा था …
आकाश की वर्षा से चुपा…
पथरो से दिल लगाने लगा था …
बड़ी इमरतो में रहने लगा था …

अपना ही भवनाओ से लडने लगा था…
खूद को हराने में लगा था…।
पेसा और शौहरत बना रहा था …
खुद से खुदा को गुलाम बना रहा था…

अज आपनी आदतों से नफ़रत हुई है …
खूद पर और कितना जुल्म करूँ…
यह सोच कर बैठा हूं …
खुदा से रूठा हूं…

संध्या की बेला है …
लहरों की शोर है …
समुंदर की गहराइ है…
मेरा मन, तू अकेला है …!!


Mera Man tu kyun Akela Hai?

Sandhya ki bela hai…
Lahron ki shor hai…
Samundar ki gahrai hai….
Mera man , tu akela hai….

Aasman ki laali chhayi hai …..
Chup chaap baitha hoon ….
Khud se rootha hoon….
Ae man bas mai hi tmhare pass hoon….

Ek hasti banane nikla tha….
Khub paise kamane nikla tha….
Aadhi door bhi aa gaya hoon…
Phir bhi udas baitha hoon….

Aage me tanhai hai….
Piche me parchai hai….
Sahi galat samajh raha hoon…
Isliye chup chaap baitha hoon…

Khushiyan Bator rha tha…
Aage aage badh RHA tha….
Apno ki yaad aa gayi….
Isliye baitha hoon…

Andhera ho chuki hai….
Asmanjas me hoon…
Aage jaun ya piche …..
Is baat se rootha hoon….

Koi wajah ni dikhti…
Koi galat ni lagta…
Phir kyun dil khali sa hai…
Man ka mera baagicha kahan hai?…

Rangin Phoolon se Rutha tha…
Aakash ki varsha se chuupa tha…
Pathro se dil lagaane laga tha…
Badi imarto me rahne laga tha….

Apne hi bhavnao se ladne laga tha…
Khud ko harane me laga tha ….
Paisa aur shauhrat bana rha tha…
Khud se khud ko hi gulam bana RHA tha….

Aaj Apni aadton se nafrat hui hai …
Khud par aur kitna julm karoon….
Yah sochkar baitha hoon…
Khud se rootha hoon….

Sandhya ki bela hai…
Lahron ki shor hai…
Samundar ki gahrai hai..
Mera man, tu akela hai..!!

Read Blog

Read More Hindi-poems

1 thought on “ALONE HINDI POEM”

Leave a Comment