BACHPAN ~ बचपन

 


BACHPAN

bachpan kya hai aao yaad tumhe krwata hu,
natkhat aur un sararato se chit tumhara behlata hu,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko pane ka,
papa ki daat kha kar maa ke anchal me chip jaane ka,
yaad kro wo sunehra awsar barish ki bundo ko haath lagane ka,
chup chupa kar sab se muthi bhar bhar kar mitti khane ka,
aur chitiyo ke bil ko khoj khoj kar aangan me,
usme pani bhar kar bhaag kahi chip jaane ka,
aur saare kit phatango ko ghar me maar girane ka,
yaad kro un raato ko tum daadi ki kahani sun so jaane ka,
aur neend me hokar bhi maa ke haatho se khane ka,
baris ke us behte pani me kasti ko dur talak le jaane ka,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko paane ka,
wo chip chipa kar maa se muthi bhar kar chini khane ka,
garmi ke dino me gulcose kha kr thandhe ho jana ka,
gilli se nisane laga kr dante ki jageh saamne wale ko maar bhagane ka,
to kabhi goliyo ke khel me use ungliyo se ghumane ka,
aur papa se pakde jaane par ungli pe maar khane ka,
patre ki baat aur phatthe ke vicket ko lekar dhup me nikal jaane ka,
daud daud kar aa aa kar pani pee kar bhaag jaane ka,
aur yaad hai football ke khel khel me dosto ko langhi lagane ka,
unke gir jaane par ohhh keh kr unhe uthane ka,
aur puja ke dino me dusre ke ghar se phul utha kr bhaag jaane ka,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko paane ka,
aur khane ke samay me mujhe jyade ka jid machane ka,
aur hmesa bhaiyo ki katori jhaak kar maa se aur maang laane ka,
phle khane ki hur me bade bhaiyo se lar jaane ka,
kapro ke rang alag hone par uska accha hai keh chillane ka,
aur daam puch kar papa se mehenge kapdo ke liye khus ho jaane ka,
jibh dikha kar muh bana kar behno ko chidhane ka,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko paane ka,
didi ki gudiyo ko utha kar apne sirhane me chipane ka,
choto ki cheeze chhin kr unhe khiza kar rulane ka,
school jaane ki jid macha kr dakhila krwane ka,
aur dakhila le kar phle din peet kr rote rote jaane ka,
kapre par har roz jaan kr gandagi laga kar aane ka,
bahane bana bana kar school se chutti paane ka,
homework ki copy chipa kar kakcha se bahar nikal jaane ka,
bahar jaa kar ke phulo aur pedo se man behlane ka,
teacher ke bulane par der se andar aane ka,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko paane ka,
kabhi katar to kabhi rubber ko bhula kr aane ka,
to kabhi chalk ko khane ka to kabhi pencil ko daato se dabane ka,
kabhi bathroom me mitro ko band kar bhaag jaane ka,
to kabhi kisi ke bench par gond laga kar unke chizo ko chipkane ka,
kbhi kursi khiska kar dosto ko girane ka,
kabhi sir sir chilla kar halla saant krane ka,
kabhi likhne ke dar se pencil ko chipane ka,
kabhi kisi ko maar kar khud ka sar khujlane ka,
to kabhi kisi ki kaan khich kar naam auro ka lagane ka,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko paane ka,
exam ke saamne aane par dar se bukhaar aane ka,
aur exam hall me jaa kar phla ghanta so kar bitane ka,
to kabhi jldi nikalne ki hur me question chhod baag jaane ka,
toilet ke bahane bana kar har class me bahar jaane ka,
aur diwali ke dino me toilet me bam jalane ka,
yaad kro wo jid tumhara un khilono ko paane ka..

बचपन 

बचपन क्या है आओ याद तुम्हे करवाता हूँ,
नटखट और उन शरारत से चित तुम्हारा बहलाता हूँ,
याद करो वो जिद तुम्हारा उन खिलोनो को पाने का,
पापा की डाट खा कर मा के अंचल में छिप जाने का,
याद करो सो सुन्हेरा अवसर बारिश की बूंदों को हाथ लगाने का,
छुप छुपा कर सब से मुट्ठी भर भर मिटटी खाने का,
और चीटियों के बिल को खोज कर आंगन में,
उसमे पानी भर कर भाग कहीं छिप जाने का,
और सारे किट फतंगों को घर में मार गीरने का,
याद करो उन रातों को तुम दादी की कहानी सुन सो जाने का,
और नींद में होकर भी माँ के हाथो से खाने का,
बारिश के उस बहते पानी में कश्ती को दूर तलक ले जाने का,
याद करो वो जिद तुम्हारा उन खिलोनो को पाने का,
वो छिप छिपा कर मा से मुठी भर कर चीनी खाने का,
गर्मी के दिनों में ग्लूकोस खा कर ठन्डे हो जाने का,
गिल्ली से निशाना लगा कर डनते की जगह सामने वाले को मार भागने का,
तो कभी गोलियों के खेल में उसे उँगलियों से घुमाने का,
और पापा से पकडे जाने पर उँगलियों पे मार खाने का,
पटरे की BAT और फट्ठे के wicket को लेकर धुप में निकल जाने का,
दौड़ दौड़ कर आ आ कर पानी पि कर भाग जाने का,
पर याद है फुटबॉल के खेल खेल में दोस्तों को लांघी लगाने का,
उनके गिर जाने पर ओह कह कर उन्हें उठाने का,
और पूजा के दिनों में दुसरे के घर से फूल उठा कर भाग जाने का,
याद करो वो जिद तुम्हारा उन खिलोनो को पाने का,
और खाने के समय में मुझे ज्यादा का जीज़ मचाने का,
और हमेशा भाइयो की कटोरी झांक कर मा से और मांग लाने का,
पहले खाने की हूर में बड़े भाइयो से लड़ जाने का,
कपड़ो के रंग अलग होने पर उसका अच्छा है कह चिल्लाने का,
और दाम पूछ कर पापा से महंगा कपड़ो के लिए खुस हो जाने का,
जीभ दिखा कर मुह बना कर बहनों को चिढाने का,
याफ करो वो जिद तुमहरा उन खिलोनो को पाने का,
दीदी की गुड़ियों को उठा कर अपने सिरहाने में छिपाने का,
छोटो की चीज़े छीन कर उन्हें खिज़ा कर रुलाने का,
स्कूल जाने की जिद मचा कर दाखिला करवाने का,
और दाखिला ले कर पहले दिन पिट कर रोते रोते जाने का,
कपडे पर हर रोज़ जान कर गन्दगी लगा कर आने का,
homework की copy छिपा कर कक्षा से बहार निकल जाने का,
बहार जा कर के फूलो और पेड़ो से मनन बहलाने का,
टीचर के बुलाने पर देर से अन्दर आने का,
याद करो वो जीज़ तुम्हारा उन खिलोनो को पाने का,
कभी कटर तो कभी rubber को भुला कर आने का,
तो कभी chalk को खाने का तो कभी पंकिल को दाँतों से दबाने का,
कभी बाथरूम में मित्रो को बंद कर भाग जाने का,
तो कभी किसी के बेंच पर गोंद लगा कर उनके चीजों को चिपकाने का,
कभी खुर्सी खिसका कर दोस्तों को गिराने का,
कभी सर सर चिल्ला का हल्ला शांत करने का,
कभी लिखने के दर से पेंसिल को छिपाने का,
कभी किसी को मार कर सर खुजलाने का,
तो कभी किसी की कान खिंच कर नाम औरो का लगाने का,
याद करो वो जिद तुम्हारा उन खिलोनो को पाने का,
exam के सामने आने पर दर से बुखार आने का,
और exam हॉल में जा कर पहला घंटा सो कर बिताने का,
तो कभी जल्दी निकलने की हूर में question छोड़ भाग जाने का,
toilet के बहाना बना कर हर क्लास में बहार जाने का,
और दिवाली के दिनों में toilet में बम जलाने का,
याद करो वो जिद तुम्हारा उन खिलोनो को पाने का..


For more poem visit: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem

For interesting blogs: http://jagatgyaan.in

Leave a Comment