BEST HINDI POEM COLLECTION

BEST HINDI POEM COLLECTION

Hindi poem (s) have a very vast history in India and nowadays Hindi poem (s) are not getting their value which they deserve.
Here is a small initiative to revive the culture of Hindi poem (s) and Here are some Hindi Poem (s) which is going to inspire you to do good things and excite you at the same time. Hindi poem(s) based on very important topic of 2020 and the coming year.


beti-status-dairy

बेटी

बेटी सोई हुई चीज को जगा कर तो देखो,
दो कदम पीछे क्यों
एक कदम आगे बढ़ा कर तो देखो।
कौन कहता है बेटियां बेटों से कम है,
एक बार बेटियों को अखाड़े में लड़ा कर तो देखो।।
जमाना कदमों में ला कर रख देगी
समाज के बंधन से छुड़ाकर तो देखो।।
तेरा मुकुट सजके रहेगा सर पर ,
बुलंद इरादों से हिमालय चढ़ा कर तो देखो।।
दो निवाले पाने की लालसा है तुम्हें,
यह मोह मन से तनिक हटा कर तो देखो।।
वंश बेटी से बढ़ता है साहब बेटों से नहीं,
पाठ शिक्षा का घर घर पढ़ाकर तो देखो।।

Beti

Beti soyi hui chiz ko jaga kar to dekho,
Do kadam pichhe kyon
Ek kadam aage badha kar to dekho.
Kon kahta hai betiyan beton se kam hai,
Ek baar betiyon ko akhaade mein lada kar to dekho..
Jamaana kadmon mein la kar rakh degi
Samaaj ke bandhan se chhudakar to dekho..
Tera mukut sajke rahega sar par ,
Buland iraadon se himalay chadha kar to dekho..
Do nivale paane ki laalsa hai tumhen,
Yah moh mann se tanik hata kar to dekho..
Vansh beti se badhata hai saahab beton se nahin,
Paath shiksha ka ghar ghar par aakar to dekho..


intezar-kar-status-dairy

इंतजार कर

वह आएगी थोड़ा इंतजार कर..।
पुकार एक बार नहीं बार-बार कर..।
मंडरा रहे हैं कई उसके आगे पीछे
उठ थोड़ा कष्ट तू भी मेरे यार का।।
डरती क्यों हो मंझधार में बवंडर से
उठा पतवार और बवंडर पर वार कर।।
तुझे गिराने की ताक में है यह जमाना
बांध कमर और पैरों को होशियार कर।।
खिलौना बन कर बिक जाएगी बाजार में
बाजार में खुद को एक नायाब तैयार ।।
दूर है तुमसे चांद सितारे तो क्या हुआ
कुछ जुगनुए है यहां से प्यार कर।।

Intezar kar : Hindi Poem

Waah aayegi thoda intajaar kar…
Pukaar ek baar nahin baar-baar kar…
Mandra rahe hain kai uske aage pichhe
uth thoda kasht tu bhi mere yaar ka..
Darti kyon ho manjhdhaar mein bawandar se
Utha patvaar aur bavandar par vaar kar..
Tujhe girane ki taak mein hai yah jamana
Bandh kamar aur pairon ko hoshiyaar kar..
Khilauna ban kar bik jaegi baajaar mein
Bajar mein khud ko ek nayaab taiyaar ..
Dur hai tumse chaand sitaare to kya hua
Kuch jugnue hai yahan se pyaar kar..


mat-soch-maa-ek-nari-hai-POEM-status-dairy

मत सोच मां एक नारी है

मां ही सृष्टि में अग्रणी है
धरा को धरे मां जननी है
मां की रचना ही प्यारी है….. मत सोच मां एक नारी है
छिपाए अपनी चर्म भित्ति में
आंच आने न देती संतति में
पल पल तुझे निहारी है… मत सोच मां एक नारी है
नीत नव तुम्हें सान कराती है
भूखी रह कर रक्तपान कराती है
प्रसव पीड़ा से कभी नहीं हारी है..मत सोच मां एक नारी है स्वयं शून्य और तुम्हें धरा देती है
नव जग नव नजारा देती है
मौन से मरण को डारी है …मत सोच मां एक नारी है
चला अंगुली पकड़ गज गति से
गिरा जब लगाया तुम्हें छाती से
हर दिन में बनी प्रहरी है …मत सोच मां एक नारी है

Mat soch maa ek nari hai: Hindi Poem

Maa h shrishti mein agrani hai
Dhra ko dhare maa janani hai
Maa ki rachna hi pyaari hai.. mat soch maa ek naari hai
Chhipae apani charm bhitti mein
Aanch aane na deti santati mein
Pal Pal tujhe nihari hai.. mat soch maan ek naari hai
neet nav tumhen saan karaati hai
bhookhi rah kar raktpan karaati hai
Prasav peeda se kabhi nahin haari hai..mat soch maan ek naaree hai
svayan shoonay aur tumhen dhra deti hai
nav jag nav najara deti hai
maun se maran ko daari hai …mat soch maan ek naari hai
chala anguli pakad gaj gati se
gira jab lagaya tumhen chhaati se
har din mein banee prahari hai..mat soch maan ek naari hai..


corona-poem-status-dairy

कोरोना का गणित

आज बचो तब न कल देखोगे
ठहराव का मीठा फल देखोगे।
जटिल नहीं है कोरोना का गणित
शीघ्र ही इस आफत का हल देखोगे ।।
ठहराव घर की स्वस्थ उसूली है,
यत्र-तत्र भटकाव एक सूली है
हर बवंडर थमा है इक दिन,
कोरोना किस खेत की मूली है।।
शारीरिक दूरियां रखो अपने खातिर
वरना कौन आएगा राम नाम जपने खातिर ।
खटिया से दोस्ती रखो हटिया से नहीं
वरना कौन सोएगा आखिर सपने खातिर ।।
छोड़ो सब धर्म और मजहब,
क्योंकि कोरोना से लड़ना है अब ।
तू जी औरों को भी जीने दे,
इंसान हो इंसानियत दिखाएगा कब ।।
देखो डॉक्टरों के हौसले कभी कम ना हो,
सोचो पुलिस वालों की आंखें कभी नम ना हो ।।
लड़ रहे हैं दिवा-निशि हमारे लिए
क्या फायदा अगर इस जंग में हम ना हो
आज बचो तब न कल देखोगे ।।

Corona ki ganit: Hindi poem

Aaj bacho tab na kal dekhoge
Thahrav ka meetha phal dekhoge.
Jatil nahi hai corona ka ganit
Shighr hee iss aaphat ka hal dekhoge ..
Thahraav ghar ki svasth usooli hai,
Yatr-tatr bhatkaav ek sooli hai
Har bavandar thama hai ek din,
Corona kis khet ki mooli hai..
shareerik dooriyan rakho apne khaatir
varna kaun aaega raam naam japne khaatir .
khatiya se dosti rakho hatiya se nahin
varna kaun soyega aakhir sapne khaatir ..
chhodo sab dharm aur majhab,
kyonki corona se ladana hai ab..
tu ji auron ko bhi jeene de,
insaan ho insaaniyat dikhayega kab ..
dekho doctoron ke hausle kabhi kam na ho,
socho police vaalon ki aankhen kabhi nam na ho ..
lad rahe hain diva-nishi hamare liye
kya fayda agar is jang mein ham na ho
aaj bacho tab na kal dekhoge…


hisab-rakha-jayega-hindi-poem-status-dairy

हिसाब रखा जाएगा

हर सवाल का जवाब रखा जाएगा ,
दिए गए जख्मों का हिसाब रखा जाएगा।
खेले हैं अब तक चरागों के साथ,
अब हथेली पर एक आफताब रखा जाएगा।
बिन नशे के नशे में थे हम,
अब होठों पर जाम -ए- शराब रखा जाएगा।।
कह दो हुक्मरान से अपना मकां संभाले
अब हरेक बारिश पर इक सैलाब रखा जाएगा।।
जुर्म बहुत कर लिए हो नकाब पहनकर,
अदालत सजी है, अब सबको बेनकाब रखा जाएगा
हर सवाल का जवाब रखा जाएगा ।।

Hisab rakha jayega: Hindi poem

Har sawal ka jawab rakha jayega ,
Diye gaye jakhmon ka hisaab rakha jayega.
khele hain ab tak charaago ke saath,
ab hatheli par ek aaftab rakha jayega.
bin nashe ke nashe mein the ham,
ab hothon par jaam -e- sharab rakha jayega..
kah do hukmraan se apna makaan sambhale
ab harek barish par ek sailaab rakha jaega..
jurm bahut kar liye ho nakab pahankar,
Adalat saji hai, ab sabako benakab rakha jaega
Har sawal ka jawab rakha jayega..


liye-chalte-hai-hindi-poem-status-dairy

लिए चलते है

हम दिल के साथ-साथ दिमाग लिए चलते हैं,
आंखों में पानी तो सीने में आग लिए चलते हैं।
आफताब और महताब के मुरीद नहीं हैं हम,
हम कंधो पे जुगनुए और हाथों पर चीराग लिए चलते हैं।
आगे पीछे , ऊपर नीचे, दाएं बाएं नजरें है हमारी,
प्रेमियों के लिए प्रेम तो बैरों के लिए अपराग लिए चलते हैं।
कीचड़ कितना उछालेगा यह जमाना लिबाज पर
कोई केह दो इसे की character हम बेदाग लिए चलते हैं।।

Liye chalte hai : Hindi poem

Hum dil ke sath-saath dimag lie chalte hain,
Aankhon mein pani to seene mein aag liye chalate hain.
Aaftab aur mahtaab ke mureed nahi hain ham,
Hum kandho pe jugnue aur haathon par chiraag liye chalte hain.
Aage peechhe , upar neeche, daen baen najaren hai hamaari,
Premiyon ke liye prem to bairon ke lie apraag liye chalte hain.
Kichad kitna uchhalega yah jamana libaaj par
Koi keh do ise ki character ham bedaag liye chalate hain..


dekhunga-poem-in-hindi-status-dairy

देखूंगा

मैं ‘कल’ और ‘कल’ आज देखूंगा !
तेरे दिल के सारे के सारे राज देखूंगा !!!
उम्दा किरदार निभाए हो परदे पर !
आज अपनों के बीच रियाज देखूंगा !!
सुना है तारीफें तेरी बहुत बहारों से !
मुखातिब हुए हो,जुबानी अल्फाज देखूंगा !!!!
‘अंत’ से नाता नहीं है मेरा मुद्दतों से!
यथार्थ की राह पर तेरा आगाज़ देखूंगा !!!

Dekhunga

Main ‘kal’ aur ‘kal’ aaj dekhunga !
Tere dil ke saare ke saare raaj dekhunga !!!
Umda kirdaar nibhaye ho parade par !
Aaj apno ke beech riyaaj dekhunga !!
Suna hai taarifen teri bahut bahaaron se !
Mukhaatib hue ho, jubaani alphaj dekhunga !!!!
‘annt’ se nata nahin hai mera muddaton se!
Yatharth ki raah par tera aagaaz dekhunga !!!


jeeta-bhi-hara-bhi-hindi-kavita-status-dairy

जीता भी और हरा भी

सांसो से सांस चुराकर एक सांस लिख रहा हूं,
अधूरी ख्वाहिश से जिंदगी का एहसास लिख रहा हूं।।
जिधर गया उधर ही भीड़ ने कुचला है मुझे,
आप जख्म लेकर तन्हाई के आसपास लिख रहा हूं।।
लड़ाई लड़कर जीता भी और हारा भी, अपनों से
सो कुछ खाली पन्नों का यही इतिहास लिख रहा हूं।।
आजकल तबीयत भी तबीयत से नाराज़ रहती है
खुद की खिदमत कर सकूं इक प्रयास लिख रहा हूं।।
सांसो से सांस चुराकर एक सांस लिख रहा हूं,

Jeeta bhi hara bhi

Saanso se saans churakar ek saans likh raha hoon,
Adhoori khvahish se jindagi ka ehsaas likh raha hoon..
Jidhar gya udhar hi bheed ne kuchala hai mujhe,
Aap jakhm lekar tanhayi ke aaspaas likh raha hoon..
Ladai ladkar jeeta bhi aur haara bhi, apno se
Sab kuchh khali pannon ka yahi itihas likh raha hoon..
Aajkal tabiyat bhi tabiyat se naraz rahti hai
khud kee khidmat kar sakoon ek prayas likh raha hoon..
Saanso se saans churakar ek saans likh raha hoon..


कवि- हरलाल महतो

Read more Hindi poems, Hindi Kavita, poems in Hindi, Hindi poetry, famous Hindi poems.

For Exciting Blogs


 

2 thoughts on “BEST HINDI POEM COLLECTION”

Leave a Comment