LATEST HINDI POEM | PADHTI HAI | ABHI BAKI HAI

Here are some of the best and latest Hindi Poems presented by Vikram. First poem enlights how her lover reads his feelings and what she feels about it.
Second Poem reminds everyone should not stop with small failures in life.


पढ़ती है 

मैं खुली किताब समझता हूँ तन को
वह मेरी नैनो की मेरी इजाज़त से पढ़ती है
तर्क-ए-तअल्लुक को वजह क्या लिखूं
कभी शराफत से कभी शरारत से पढ़ती है,
कहा करता हूँ मशक्कत अपनी कलम से
जो भी लिखू , उसे वह इनायत से पढ़ती है,
जिक्र जार छुट जाये, ऊँ कत्थई आँखों का
वह मेरी गजलों को, शिकायत से पढ़ती है,
विक्रम का सब लिखा, तुम से ही मंसूब है
मुझे सारी दुनिया तेरी बदौलत से पढ़ती है..

Padhti hai

wah mere naam ko bade hidayat se padhati hai
kabhi tasbih mein kabhi aayat se padhati hai,
main khuli kitab samajhta hoon tan ko
wah meri naino ko meri ijazat se padhati hai
tark-e-talluk ki vajah kya likhoon
kabhi sharafat se kabhi shararat se padhati hai,
kaha karta hoon mashakkat apni kalam se
jo bhi likhu, use wah inayat se padhati hai,
jikr jar chhut jaye, unn katthi ankhon ka
wah meri gajlon ko, shikayat se padhati hai,
vikram ka sab likha, tum se hi mansub hai
mujhe sari duniya teri badaulat se padhati hai ||

पढ़ती है 


अभी बाकी है 

गुजर रही हैं उम्र,
पर जीना अभी बाकी है..
जीन हालातों ने पटका जमीं पर,
उन्हें उह्त्कर जवाब देना अभी बाकी है..
चल रहा हूँ मंजिल के सफ़र में,
मंजिल को पाना अभी बाकि है..
कर लेने दो लोगों को चर्चा मेरे हार की,
कामयाबी का शोर मचाना अभी बाकी है..
वक़्त को कर देने दो अपनी मनमानी,
मेरा वक़्त आना अभी बाकी है..
समझ बैठे जो मुझे कमजोर,
ऊँ सबको जवाब देना बाकी है..
निभा रहा हूँ अपना किरदार, जिंदगी में मंच पर,
पर्दा गिरते ही, तालियाँ बजना अभी बाकी है..
कुछ नहीं गया हाथ से अभी तो
बहोत कुछ पाना बाकी है..


Abhi baki hai

Gujar rahi hain umr,
par jina abhi baki hai..
jin halaton ne pataka jamin par,
unhen uhtkar jawab dena abhi baki hai..
chal raha hoon manjil ke safar mein,
manjil ko pana abhi baki hai..
kar lene do logon ko charcha mere har ki,
kamayabi ka shor machana abhi baki hai..
vaqt ko kar dene do apni manamani,
mera vaqt aana abhi baki hai..
samjh baithe jo mujhe kamjor,
unn sabko jawab dena baki hai..
nibha raha hoon apna kirdar, jindagi mein manch par,
parda girate hi, taliyan b

ajna abhi baki hai..
kuchh nahin gaya hath se abhi to
bahot kuchh pana baki hai ||

abhi baki hai status dairy


For more Poem visit here: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem

For interesting blogs visit here: https://jagatgyaan.in/

Leave a Comment