Latest Hindi Poem PART 2 – AANKHO SE APNE

latest Hindi poem PART 2 by AMANJEE SINGH “.
creating new poem on love that can be so vast and expressive.
latest hindi poem part 2 consists all of the feeling so enjoy the followings.


AANKHO SE APNE

Aankho se apne,
Yu ashak na chalkao,
Meri lakshmi ho na,
Has kar mere paas aao,
Ruthi ho gar jo mujhse,
To phle galti to batlao,
Aankho me yu aansu bhar kar,
Dil ko challi na karwao.
Yaad rakho hmesa,
Muskaan tumhari ek paa kar,
Thakaan sari bhulate hai,
Aur ankho me rakhti ho ashak ,
Sayad khus hm tumhe na rakh paate hai,
Gar aisa hai to batlao,
Kami ka mere aabhas mujhe karao,
Par yu ashko ko baha kar,
Dil ko mere challi mat karwao..

आँखों से अपने

आँखों से अपने,
यूँ अश्क ना छलकाओ,
मेरी लक्ष्मी हो ना,
हस कर मेरे पास आओ,
रूठी हो गर तो बतलाओ,
आँखों में यूँ आशु भर कर,
दिल को छल्ली ना करवाओ..
याद रखो हमेशा,
मुस्कान तुम्हारी एक पा कर,
थकान साड़ी भुलाते है,
और आँखों में रखती हो अश्क,
सायद खुस हम तुम्हे ना रख पाते है,
गर ऐसा है तो बतलाओ,
कमी का मेरे आभास मुझे कराओ,
पर यु अश्को को बहा कर,
दिल को मेरे छल्ली मत करवाओ..

hindi poem status dairy


KAHA THA HUMNE KALIYO SE

Kaha tha humne kaliyo se,
Ki phul ban kar tum itrana,
Aayengi jab mehbooba meri,
Raaho me khud hi jhuk jana,
Par kch kaliyo ne najane kya tha thana,
Na dil behlaya na hi raah,
Mere mehboob ka sajaya,
Aur batlaya tha hmne to,
Un khushnuma baharo se,
Na jaane wo kaise sarma gaye,
Sajaya tha hmne apne ghar ko,
Ulfat ke haseen nazaro se,
Par kya kahu mai dosto,
Meri kosise dhari reh gayi,
Mili jo unse nazar to lari reh gayi,
Aur wo bahar aur ful kya krenge,
Wo dhare ke dhare reh gaye,
Aur ghire jab hm unke yaad me,
Baho me hi pare reh gaye,
Beet gayi ghariya kitni,
palat gaya mera sansaar,
Ek paa kar unko laga,
jaise paa liya sansaar,
Maa si mamta thi unme,
Dosto sa tha unka saath,
Dil ko behla mere unhone,
Bhar diya unke liye unhone pyaar.

कहा था हमने कलियों से

कहा था हमने कलियों से,
की फुल बन कर तुम इतराना,
आयेंगी जब महबूबा मेरी,
रोहों में खुद ही झुक जाना,
पर कुछ कलियों ने ना जाने क्या था ठाना,
ना दिल बहलाया न ही राह,
मेरे महबूब का सजाया,
और बतलाया था हमने तो,
उन खुशनुमा बहारो से,
ना जाने वो कैसे शर्मा गए,
सजाया था हमने अपने घर को,
उल्फत के हसीन नज़रों से,
पर क्या कहु मैं दोस्तों,
मेरी कोसिसे धरी रह गयीं,
और वो बहार और फुल क्या करेंगे,
वो धरे के धरे रह गए,
और घिरे जब हम उनके याद में,
बहों में ही पड़े रह गए,
बीत गयी घड़ियाँ कितनी,
पलट गया मेरा संसार,
एक पा कर उनको लगा,
जैसे पा लिया संसार,
माँ सी ममता थी उनमे,
दोस्तों सा था उनका साथ,
दिल को बहला मेरे उन्होंने,
भर दिया उनके लिए उन्होंने प्यार..

hindi poem status dairy


For more poem: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem

For interesting blogs visit here: https://jagatgyaan.in/

Leave a Comment