LATEST HINDI POEM ~ Apne aaj ki wajood samajhna chah rha hoon

HINDI POEM ABOUT FINDING VALUE OF EXISTENCE IN SMALL THINGS IN LIFE AND EVALUATING THEM.


Apne aaj ki wajood samajhna chah rha hoon:

apne aaj ki wajood samajhna chah rha hoon,
mai aisa kyun ho, yeh sawal hawi hai,
bahut khush to nahi hoon,
wajaho ki padtal kar rha hoon,

kahanahi to bachpan se hi suru hui,
dil me aseem prem hoti thi,
har chote se chiz par, hasi nahikal aati thi,
shayad logo ko yeh pasand nahi aati thi,

bachha samjhkar bade chiddhate the,
shayad khud se wo bhi naaraz the,
mjhe bina chal kapat hasta dekh,
shayad wo apna dard nahi rok paate the,

log apna gussa nikalna chahte the,
bewajah kabhi mujhe daant jate the,
unhe laga bacha hai,
par baatein mere dil me chap jati thi,

mai bhi kabhi ro deta,
mai bhi kabhi gusse se bhar jata,
par kuch hi palo me hasne lagta,
aur logo pe wahi bharosha karne lagta,

thoda samay gujra,
meri kuch umar badhi,
mjhme kuch samjh aane lagi,
aur logo ki baat samjhne ki kosis karne laga,

bachpan ka gussa kabhi nafrat me badal jata,
khud ko badalne ki chahat hoti,
jab jab apne bharoshe ko tootte dekhta,
jab jab logo ko jhuth bolte dekhta,

sochta yah bada hona kitna muskil hai,
thoda jhuth aur chal kapat sikhna kitna dard hai,
dil pe jaise katari chalti ho,
jab jab jhuth bolna chahta ,

phir yunhi ek din khud se socha,
duniya jhuth bole, par mai kabhi jhuth nahi bolunga,
duniya bhale dard de, mai kisi ko dard nahi dunga,,
duniya bhale dhokha de, mai kisi ko dhokha nahi dunga,

bachpan wali chehre ki khushi to aayi,,
par jeevan ka naya silsila suru ho gaya,
logo ke jhuth par pratirodh nahi karta,
logo dukh dete,mai phir bhi prem deta,

samay Gujarti gyi,
logo dukh dete chale gye,
unhe laga mjhe to samjh nahi aati,
aur mai muskurakar sab sath chala gya,

dil par mere beshak bahut daag hai,
par yeh saarre chot dikhte nahhi,
kyunki mere chehre par aaj bhi,
wo bachpan wali hasi rahti hai,

ab to umar k aadhe padav par hoon,
jeevan k aadhar dhundh rha hoon,
khud se sawal kar rha hoon,
kya aage aur is duniya ka dard khudme sama paunga,

aur jawab aaj bhi dil se wahi aa rhi hai,
duniya jhuth bole, mai jhuth nahi bolunga,
duniya dard de, mai dard nahi dunga,
bas ek fark hai,

fark ye hai, aaj dil me ek maksad aayi hai,
mai yah samaaj badalne ki kosis karunga,
logo ko apne dil k ghav dikhkar,
unhe apne jeevan me, prem laane ki aagrah karunga,

shayad bahut samay lagega,
shayad meri poori meri jeevan nahikal jaye,
shayad mai naakam na rah jaun,
par phir bhi kabhi jhuth nahi bolunga,

mai waisa hi bhola rahunga,
mai waisa hi prem karta rahunga,
mai waisa hi logo par bharosha karta rahunga,
mai waisa hi bachho jaisa hasta rahunga,

apne aaj ki wajood samajhna chah rha hoon,
mai aisa kyun ho,yeh sawal hawi hai,
bahut khush to nahi hoon,
wajaho ki padtal kar rha hoon,


अपने आज की वजूद समझना चाह रहा हूँ:

अपने आज की वजूद समझना चाह रहा हूँ,
मैं ऐसा क्यूँ हूँ, ये सवाल हुई है,
बहोत खुस तो नहीं हूँ,
वजहों की पदतल कर रहा हूँ..

कहानहीं तो बचपन से ही शुरू हुई,
दिल में असीम प्रेम होती थी,
हर छोटे सी चीज़ पर, हसी निकल आती थी,
शायद लोगो को यह पसंद नहीं आती थी..

बच्चा समझकर बड़े चिढ़ाते थे,
शायद खुद से वो भी नाराज़ थे,
मुझे बिना छल कपट हस्त देख,
शायद वो अपना दर्द नहीं रोक पाते थे..

लोग अपना गुस्सा निकलना चाहते थे,
बेवजह कभी मुझे डांट ज्जाते थे,
उन्हें लगा बच्चा है,
पर बातें मेरे दिल में छाप जाती थी..

मै भी कभी रो देता,
मै भी कभी गुस्से से भर जाता,
पर कुछ ही पालो में हसने लगता,
और लोगो पे वही भरोसा लारने लगता..

थोड़ा समय गुज़रा,
मेरी कुछ उम्र बढ़ी,
मुझमे कुछ समझ आने लगी,
और लोगो की बात समझने की कोसिस करने लगा..

बचपन का गुस्सा कभी नफरत में बदल जाता,
खुद को बदलने की चाहत होती,
जब जब ओने भरोसे को टूटते देखता,
जब जब लोगो को जुठ बोलते देखता..

सोचता ये बड़ा होना कितना मुस्किल है,
थोड़ा जुठ और छल कपट सीखना कितना दर्द है,
दिल पे जैसे कटारी चलती हो,
जब जब जुट बोलना चाहता..

फीर यूँही एक दिन खुद से सोचा,
दुनिया जुठ बोले, पर मै कभी जुट नहीं बोलूँगा,
दुनिया भले दर्द दे, मै किसी को दर्द नहीं दूंगा,
दुनिया भले धोखा दे, मै किसी को धोखा नहीं दूंगा..

बचपन वाली चेहरे की खुसी तो आई,
पर जीवन का नया सिलसिला शुरू हो गया,
लोगो के जूठ पर प्रतिरोध नहीं करता,
लोगो दुःख देते, मैं फिर भी प्रेम देता..

समय गुजरती गयी ,
लोगो दुःख देते चले गये,
उन्हें लगा मुझे तो समझ नहीं आती,
और मै मुस्कुराकर सब साथ चला गया,

दिल पर बेशक बहोत दाग है,
पर यह सारे चोट दीखते नहीं,
क्यूंकि मेरे चेहरे पर आज भी,
वो बचपन वाली हसी रहती है,

अब तो उम्र के आधे पड़ाव पर हूँ ,
जीवन के आधार ढूंढ रहा हूँ,
खुद से सवाल कर रहा हूँ,
क्या आगे और इस दुनिया का दर्द खुदमें समां पाउँगा,

और जवाब आज भी दिल से वही आ रही है,
दुनिया जुठ बोले, मै जूठ नहीं बोलूँगा,
दुनिया दर्द दे, मै दर्द नहीं दूंगा,
बस एक फर्क है,

फर्क ये है, आज दिल में एक मक्सद आई है,
मै यह समाज बदलने की कोसिस करूँगा,
लोगो को अपने दिल के गवाह दिखाकर,
उन्हें ओने जीवन में, प्रेम लाने की आग्रह करूँगा,

शायद बहोत समय लगेगा,
शायद मेरी पूरी मेरी जीवन निकल जाये,
शायद मै नाकाम ना रह जाऊं,
पर फिर भी कभी जुठ नहीं बोलूँगा,

मै वैसा ही भोला रहूँगा,
मै वैसा ही प्रेम करता रहूँगा,
मै वैसा ही लोगो पर भरोसा करता रहूँगा,
मै वैसा ही बच्चो जैसा हस्ता रहूँगा,

अपने आज की वजूद समझना चाह रहा हूँ,
मै ऐसा क्यूँ हूँ,ये सवाल हुई है,
बहोत खुस तो नहीं हूँ,
वजहों की पदतल कर रहा हूँ..


for more poem: https://statusdairy.com/poetry/

for interesting blog: http://jagatgyaan.in

Leave a Comment