Rang jivan ka uda | Life Hindi Kavita

रंग जीवन का उड़ा


रंग जीवन का उड़ा,
आँखों से सपना बह गया,
खो गयी सारी खुशियाँ,
बस खोलना शारीर रह गया,
रूठ कर मुझसे कोई,
मेरा अपना खो गया,
दिन का उजाला हो कर भी,
घनघोर अँधेरा छा गया,
पल भर की हैं सजा,
या जीवन मेरा मुरझा गया..!!

Hindi Shyari

 


Rang jivan ka uda

 

rang jivan ka uda,
ankhon se sapna bah gaya,
kho gayi sari khushiyan,
bas kholna sharir rah gaya,
rooth kar mujhse koi,
mera apna kho gaya,
din ka ujala ho kar bhi,
ghanghor andhera chha gaya,
pal bhar ki hain saja,
ya jivan mera murjha gaya..


कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता,
कहीं जमीं की कहीं आसमां नहीं मिलता,
जिसे भी दिखाये वो अपने आप में गुम है,
जुबां मिली है मगर हम-जुबां नहीं मिलता,
बुझा सका है भला कोन वक़्त के शोले,
ये ऐसी आग है जिसमे धुआं नहीं मिलता,
तेरे जहान में ऐसा नहीं की प्यार न हो,
जहाँ उम्मीद हो इसकी वहां नहीं मिलता..

Hindi Shyari

 


Kabhi kisi ko mukammal jahan nahin milta

 

kabhi kisi ko mukammal jahan nahin milta,
kahin jamin kahin asman nahin milta,
jise bhi dikhaye vo apne ap mein gum hai,
juban mili hai magar ham-juban nahin milta,
bujha saka hai bhala kon vaqt ke shole,
ye aisi ag hai jisme dhuan nahin milta,
tere jahan mein aisa nahin ki pyar na ho,
jahan ummid ho iski vahan nahin milta..


दुपहरे ऐसे लगती है बिना

दुपहरे ऐसे लगती है बिना,
मोहरों के खली खाने रखे है,
ना कोई खेलने वाले है बजी,
ना कोई चल चलता है,
ना दिन होता है !
ना अब रात होती है,
सभी कुछ रुक गया है
वो क्या मोसम का झोंका था !
जब इस दीवार पर लिपटी है
तस्वीर तिरछी कर गया है…!!

Hindi Shyari

 


Dupahare aise lagati hai bina

dupahare aise lagati hai bina,
moharon ke khali khane rakhe hai,
na
koi khelne vala hai baji,
na
koi chal chalata hai,
na din hota hai,
na ab raat hoti hai,
sabhi kuchh ruk gaya hai
wo kya mosam ka
jhonka tha !
jap is divar par lipati
hui tasvir tirachhi kar gaya hai..

Leave a Comment