MEETHI SI YAADEIN

This poem is sweet flash back of my loved one expressed in words. In this poem I’m introducing her to all my friends who is reading this poem.


मीठी सी यादें

आओ हम अपना हाले दिल तुम्हे बतलाते है,
अपने महबूबा से तुम्हे शब्दो में रूबरू करते हैं,
क्या कहु मै उनकी सुन्दरता को,
वो चंदा मामा भी उनसे शरमाते है,
और निकलती है जब वो बगिया में,
फूल मुरझाये हुए भी खिल जाते है,
और आंखे खोलती है जब वे अपना,
तो आवारे कितने युही अक्सर गिर जाते है,
खुशकिस्मत है हम जो की उनको भाते है,
लबो पे तो उनके अक्सर खामोसी का पहरा रहता है,
पर खुलते है जब वे तो हर लब्ज सुनहरा रहता है,
कातिल उन सुनहरी आँखों पर हया का पर्दा रहता है,
और उन गुलाबी गालो से मंद मुस्कान ही सजदा करता है,
काली काली जुल्फों से उनकी एक छटा अजब सी आती है,
और अक्सर उनसे ही वो मदहोश हमे कर जाती है,
ख्वाबो में अक्सर आकर मेरे तार दिल के छेड़ जाती है,
सुन्दरता उनसा भला अफसरा भी कहाँ पाती है,
यूँ ही नहीं वो अजनबी दिल को मेरे भाति है,
और दुःख दर्द के सागर से अक्सर पार वही करवाती है,
इस जहाँ में सबसे ज्यादा मुझपर प्यार वही बरसाती है..
और पड़ती है जब नजर हमारी उनपर,
तो आंखे कातिल उनकी शर्माती है,
और ख्वाबों में भी आकर वो अक्सर,
तार दिल के मेरे छेड़ जाती है ।।।


MEETHI SI YAADEIN

aao ham apna hale dil tumhe batalate hai,
apne mahabooba se tumhe shabdo mein roobaru karate hain,
kya kahu mai unki sundarta ko,
vo chanda mama bhi unse sharmate hai,
aur nikalati hai jab vo bagiya mein,
phool murajhaye hue bhi khil jate hai,
aur ankhe kholati hai jab ve apna,
to avare kitane yuhi aksar gir jate hai,
khushkismat hai ham jo ki unko bhate hai,
labo pe to unke aksar khamosi ka pahara rahta hai,
par khulate hai jab ve to har labj sunhra rahta hai,
katil un sunhri ankhon par haya ka parda rahta hai,
aur un gulabi galo se mand muskan hi sajada karta hai,
kaali kaali julfon se unki ek chhata ajab si aati hai,
aur aksar unse hi vo madahosh hame kar jati hai,
khvabo mein aksar akar mere tar dil ke chhed jati hai,
sundarta unsa bhala afsara bhi kahan pati hai,
yun hi nahin vo ajnabi dil ko mere bhati hai,
aur duhkh dard ke sagar se aksar par wahi karvati hai,
iss jahan mein sabse jyada mujhpar pyar wahi barsati hai..
aur padti hai jab najar hamari unpar,
to ankhe katil unki sharmati hai,
aur khvabon mein bhi akar vo aksar,
tar dil ke mere chhed jati hai …


For Hindi poem visit here: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem
For interesting blogs visit here: https://jagatgyaan.in

Leave a Comment