POEM ON CORONA VIRUS IN HINDI

As we that, in this lockdown status people are regularly posting on Corona. Our poet write also some poems on corona and related to the current situation in India.


कोरोना की घड़ी..!

सुबह और शाम अब तो
एक सी ही लगने लगी है
बिना भागदौड़ के
अब जिंदगी भी थकने सी लगी है,
खिड़की ना खोलो तो
दिन का पता ही नहीं चलता,
लगता है कि दीवार पर टंगी घड़ी
अब गलत टाइम देने लगी है।

CORONA KI GHADEE..!

subah aur shaam ab to
ek see hee lagane lagee hai
bina bhaagadaud ke
ab jindagee bhee thakane see lagee hai,
khidakee na kholo to
din ka pata hee nahin chalata,
lagata hai ki deevaar par tangee ghadee
ab galat taim dene lagee hai. 

                              

corona status | poem on corona virus | status dairy

                                                                            ✍️ कुमार विक्रम


kabhi-socha-na-tha-status-dairy

कभी सोचा ना था ऐसे भी दिन आएँगे..?

कभी सोचा ना था ऐसे भी दिन आएँगे
छुट्टीया तो होगी, पर मना नहीं पाएंगे
आइसक्रीम का मौसम भी होगा, पर खा नहीं पाएंगे
रास्ते खुले होंगे, पर जा नहीं पाएंगे
जो दूर रह गए उनको भुला नहीं पाएंगे
और जो पास हैं उनसे हाथ भी नहीं मिला पाएंगे
जो घर लौटने की राह देखते हैं, वह घर में बंद होंगे
जो घर लौटने की राह देखते हैं, वह घर में बंद होंगे…


जिनके साथ वक्त बिताने को तरसते थे उनसे भी ऊब जाएंगे..
क्या है तारीख, कौन सा है वार, यह भी भूल जाएंगे
कैलेंडर हो जाएगा बेमानी, बस यूं ही दिन बिताते रहेंगे
साफ हो जाएगी हवा, पर चैन की सांस नहीं ले पाएंगे
नहीं दिखेगी कोई मुस्कुराहट चेहरे सारे मास्क से ढक जाएंगे
जो खुद को सोचते थे बादशाह क्या वह भी कभी हाथ फैला आएँगे
क्या सोचा था यार कभी ऐसे भी दिन आएँगे ।।

KAVI SONCHA NA THA AISE V DIN AAYENGE..?

Kabhee socha na tha aise bhee din aaenge
chhutteeya to hogee, par mana nahin paenge
aaisakreem ka mausam bhee hoga, par kha nahin paenge
raaste khule honge, par ja nahin paenge
jo door rah gae unako bhula nahin paenge
aur jo paas hain unase haath bhee nahin mila paenge
jo ghar lautane kee raah dekhate hain, vah ghar mein band honge
jo ghar lautane kee raah dekhate hain, vah ghar mein band honge…

jinake saath vakt bitaane ko tarasate the unase bhee oob jaenge..
kya hai taareekh, kaun sa hai vaar, yah bhee bhool jaenge
kailendar ho jaega bemaanee, bas yoon hee din bitaate rahenge
saaph ho jaegee hava, par chain kee saans nahin le paenge
nahin dikhegee koee muskuraahat chehare saare maask se dhak jaenge
jo khud ko sochate the baadashaah kya vah bhee kabhee haath phaila aaenge
kya socha tha yaar kabhee aise bhee din aaenge ..

✍️ कुमार शुभम


कोरोना से लड़ना है हमको..!

ऐसा कुछ, करना है हमको!
कोरोना से लड़ना हमको!!
हाथ धो के पीछे पड़ जाओ!
घर में रहकर तुम लड़ जाओ!!
किसी से तुम न हाथ मिलाओ!
नमस्ते इंडिया तुम बन जाओ!!
बच्चों के संग समय बिताओ!
उत्तम सा कुछ ज्ञान बताओ!!
घर – घर उत्तम अलख जगाओ!
इस दुश्मन को ऐसे भगाओ!!
इसी तरह जंग करना हमको!
डरना नहीं है अब तो हमको!
कोरोना से लड़ना हमको, कोरोना
से लड़ना हमको., कोरोना से….
अखण्ड भारत ! विजयी भारत !

CORONA-SE-LADNA-HAI-HUMKO-STATUS-DAIRY

CORONA SE LADNA HAI HUMKO..!

aisa kuchh, karana hai hamako!
korona se ladana hamako!!
haath dho ke peechhe pad jao!
ghar mein rahakar tum lad jao!!
kisee se tum na haath milao!
namaste indiya tum ban jao!!
bachchon ke sang samay bitao!
uttam sa kuchh gyaan batao!!
ghar – ghar uttam alakh jagao!
is dushman ko aise bhagao!!
isee tarah jang karana hamako!
darana nahin hai ab to hamako!
korona se ladana hamako, korona
se ladana hamako., korona se….
akhand bhaarat ! vijayee bhaarat !


                                                                                    ✍️ – उत्तम सिंह


For more poems Download Status Dairy App

Read more Hindi poems

Leave a Comment