Category: Poetry

BEST HINDI POEMS COLLECTION 2020

Best and latest Hindi poems collection of 2020, read & share Hindi poems with your friends. Don’t forget to appreciate the writer at the comment box.



कही मैं गुलजार तो नहीं

तुझे मैं बड़ा अच्छा लगने लगा हूँ,
सच बताओ कही मैं तेरा प्यार तो नही हूँ?
चाहूँ की इश्क़ तू मुझे भी हो जाये,
कही मैं नशे में खुमार तो नही हूँ।
ऐ इश्क़ क्यों वक्त बेवक़्त बन रही है
ग़ज़ल और शायरियां तुझ पर,
जरा ध्यान से देख मुझे,
कही मैं गुलजार तो नही हूँ।

KAHIN MEIN GULZAAR TO NAHI

tujhe main bada achchha lagane laga hoon,
sach batao kahee main tera pyaar to nahee hoon?
chaahoon kee ishq too mujhe bhee ho jaaye,
kahee main nashe mein khumaar to nahee hoon.
ai ishq kyon vakt bevaqt ban rahee hai
gazal aur shaayariyaan tujh par,
jara dhyaan se dekh mujhe,
kahee main gulajaar to nahee hoon.

Hindi Poem
Hindi Poem

 ये मामा का रिश्ता भी बड़ा खाश होता है।

मैन बहुत सी कविताओ को रुख दिया,
मगर मामा शब्द में बड़ा ही मिठास होता है।
छू लेता है वो बहुत से रिश्तों को एक साथ,
क्योकि उसमे माँ रूपी दो शब्दों का वास होता है।
होती है लड़ाईया बहुत फिर भी झुक जाता है वो,
क्योंकि खुद से ज्यादा उसे अपनो पे विश्वास होता है।
देखा नही था मैंने अपने को ,मगर कमी किसी बात की भी न आई थी।
शायद मुझ पर मेरी माँ के बाद उसके ममता की ही परछाई थी।।
होती है ज्यो तकलीफ तो न जाने कैसे वो पास होता है,
सच मानो ये मामा का रिश्ता भी बड़ा खाश होता है।।।

YE MAMA KA RISHTA BHI BADA KHAAS HOTA HAI

main bahut see kavitao ko rukh diya,
magar maama shabd mein bada hee mithaas hota hai.
chhoo leta hai vo bahut se rishton ko ek saath,
kyoki usame maan roopee do shabdon ka vaas hota hai.
hotee hai ladaeeya bahut phir bhee jhuk jaata hai vo,
kyonki khud se jyaada use apano pe vishvaas hota hai.
dekha nahee tha mainne apane ko ,magar kamee kisee baat kee bhee na aaee thee.
shaayad mujh par meree maan ke baad usake mamata kee hee parachhaee thee..
hotee hai jyo takaleeph to na jaane kaise vo paas hota hai,
sach maano ye maama ka rishta bhee bada khaash hota hai…

BEST HINDI POEMS
BEST HINDI POEMS

 घर का उजाला

‘दे हर खुशी मुझे उसने बड़े नाजों से पाला है,
मेरे घर के साथ साथ वो मेरी

आँखों का भी उजाला है’।
‘मैं चाह कर भी न उतार पाऊंगा ऋण उसकी ममता का,
क्योकि मुझे इतना पता है की उसने ही मेरा पेट पाला है’।।

‘छोटा था और मोटा था ऐसा बचपन भी मेरा होता था,
पड़ती थी पिता से डाँट तो माँ से ही लिपट कर रोता था।
न मारती थी मुझको और कहती तू तो मेरा लाला है,
मुझे इतना पता है कि उसने ही मेरा पेट पाला है।।
अब हो गया हूँ बड़ा भी और अपने पैरों पर खड़ा भी,
मेरी इस अंधेरी दुनिया मे तेरी ममता का ही उजाला है,
क्योकि मुझे इतना पता है कि उसने ही मेरा पेट पाला है”।।

GHAR KA UJALLA

de har khushee mujhe usane bade naajon se paala hai,
mere ghar ke saath saath vo meree aankhon ka bhee ujaala hai.
main chaah kar bhee na utaar paoonga rn usakee mamata ka,
kyoki mujhe itana pata hai kee usane hee mera pet paala hai..

chhota tha aur mota tha aisa bachapan bhee mera hota tha,
padatee thee pita se daant to maan se hee lipat kar rota tha.
na maaratee thee mujhako aur kahatee too to mera laala hai,
mujhe itana pata hai ki usane hee mera pet paala hai..
ab ho gaya hoon bada bhee aur apane pairon par khada bhee,
meree is andheree duniya me teree mamata ka hee ujaala hai,
kyoki mujhe itana pata hai ki usane hee mera pet paala hai”..

HINDI POEMS
HINDI POEMS

लिखता रहता हूँ 

मैं तो तेरे इश्क़ की दुकान में ,अब बिकता सा रहता हूँ,
की कभी हसमुख तो कभी पागलपन अब दिखता सा रहता हूँ
हमे ये असर ही तो है तेरे पागल प्यार का ओ सनम,
तभी तो पता नही क्या सोचता और क्या लिखता से रहता हूँ।।।।

LIKHTA REHTA HOON

main to tere ishq kee dukaan mein ,ab bikata sa rahata hoon,
kee kabhee hasamukh to kabhee paagalapan ab dikhata sa rahata hoon
hame ye asar hee to hai tere paagal pyaar ka o sanam,
tabhee to pata nahee kya sochata aur kya likhata se rahata hoon….

likhta rehta hun shayari statusdairy.com


चांदनी रात

यूं देर सवेर…. तू मुझे प्यार न कर,
समझ लूंगा तुझे दिल से , तू एतबार न कर।
चाहत मेरी तुझे खुद मेरे पास बुला लेगी पागल
यूँ बैठ चांदनी रातो में, तू इंतजार न कर ।।।

CHAANDNI RAAT

yoon der saver…. too mujhe pyaar na kar,
samajh loonga tujhe dil se , too etabaar na kar.
chaahat meree tujhe khud mere paas bula legee paagal
yoon baith chaandanee raato mein, too intajaar na kar …

 

shayari on chaand statusdairy.com


मेरी यादों का भरोसा

हो जिसे दर्द प्यार खोने का जनाब, वो रातो को कहाँ सोता है।।
प्यार मुक्कमल ही हो हर किसी का, भाई ऐसा थोड़े ही होता है,।।
न जाने कब रुला दे आपको एक ग़ज़ल मेरी, तो सम्भाल के रहिये,
क्योंकि मेरी ग़ज़ल और यादों का, भरोसा थोड़े ही होता है।।।।

MERE YAADON KA BHAROSA

ho jise dard pyaar khone ka janaab, vo raato ko kahaan sota hai..
pyaar mukkamal hee ho har kisee ka, bhaee aisa thode hee hota hai,..
na jaane kab rula de aapako ek gazal meree, to sambhaal ke rahiye,
kyonki meree gazal aur yaadon ka, bharosa thode hee hota hai….

best hindi shayari Meeri yaadon ka bharossa shayari statusdairy.com
Best Hindi poems Meeri yaadon ka bharossa shayari statusdairy.com

 प्यार में वार

छोड़ दिया जिस शख्स को , उस बात का मलाल करोगे क्या??
क्या गलत था, क्या सही हुआ, इस बात का सवाल करोगे क्या?
फिर पता चलेगा कि सोची समझी चाल थी घर वालों की उसके,
क्या जता आशिक़ी फिर से, उसके घर बवाल करोगे क्या।।।।

PYAAR MEIN VAAR

chhod diya jis shakhs ko , us baat ka malaal karoge kya??
kya galat tha, kya sahee hua, is baat ka savaal karoge kya?
phir pata chalega ki sochee samajhee chaal thee ghar vaalon kee usake,
kya jata aashiqee phir se, usake ghar bavaal karoge kya….

best hindi love shayari statusdairy.com


बीता हुआ कल

मेरे कल से मुझे पहचान मत, कुछ जिंदगी मेरी छूटी हुई है,
अब बदल चुका हूं जिसकी खातिर, वो ही मुझसे रूठी हुई है।।
देखे है बहुत उतार-चढ़ाव, इस छोटी उम्र के सफर में,
यहाँ रास्तों की मुसीबतो से मेरी साँसे टूटी हुई है।
अब बदल लिया है खुद को, कुछ कर गुजरने की आस में,
फिर हौसले और प्यार से मैंने खुशिया लूटी हुई है।।
अब बदल चुका हूं, जिसकी खातिर ,वो ही मुझसे रूठी हुई है।।।

BEETA HUWA KAL

mere kal se mujhe pahachaan mat, kuchh jindagee meree chhootee huee hai,
ab badal chuka hoon jisakee khaatir, vo hee mujhase roothee huee hai..
dekhe hai bahut utaar-chadhaav, is chhotee umr ke saphar mein,
yahaan raaston kee museebato se meree saanse tootee huee hai.
ab badal liya hai khud ko, kuchh kar gujarane kee aas mein,
phir hausale aur pyaar se mainne khushiya lootee huee hai..
ab badal chuka hoon, jisakee khaatir ,vo hee mujhase roothee huee hai…


नमक का शहर

गर फरेबों की लगी थी महफ़िल,
तो सच बोलने को किसने कहा था?
फिर लगी थी दिल पे जो बात,
उस बात को बोलने को किसने कहा था।।
ये तो झूठे, फरेबों,और मक्कारो का ही शहर था मुखबिर,
और जब नमक का ही था शहर
तो जख्म खोलने को किसने कहा था।।।

NAMAK KA SHEHAR

gar pharebon kee lagee thee mahafil,
to sach bolane ko kisane kaha tha?
phir lagee thee dil pe jo baat,
us baat ko bolane ko kisane kaha tha..
ye to jhoothe, pharebon,aur makkaaro ka hee shahar tha mukhabir,
aur jab namak ka hee tha shahar
to jakhm kholane ko kisane kaha tha…

HINDI POEMS
HINDI POEMS

 घर तेरा तो गांव है

सोना चाहूँ जो तेरे ख़्यालातों के संग, तो सोकर भी वो मुझे सोने नहीं देते है।
रोना चाहूँ जो तेरी याद लेकर , तो नैना मुझे रोकर भी रोने नहीं देते है।
बड़ी कश्मकश के साथ तेरे हवाले तो कर दिया है, ख़ुद को मैंने
मगर जाने क्या ख़्यालात है दिल में, जो मुझे तेरा होके भी तेरा होने नहीं देते है।।

ये बारिशो का मौसम है, कही धूप तो कही छाँव है।
तू चल जरूर रहा है, मगर वजह तेरे ही पाँव है।
यूँ जान की बाजी क्या लगाना,मिट्टी के पुतले के लिए,
जो देख रहा तू शहर को ,जबकि घर तेरा तो गाँव है।।।

चल कस्ती को तू पार कर, थोड़ा बीच फिर मझदार कर।
ले चल किनारे फिर, जब खुद की तेरी नांव है।
फिर देख रहा शहर को क्यो,जबकि घर तेरा तो गांव है।।।

GHAR TERA TOH GANV HAI

sona chaahoon jo tere khyaalaaton ke sang, to sokar bhee vo mujhe sone nahin dete hai.
rona chaahoon jo teree yaad lekar , to naina mujhe rokar bhee rone nahin dete hai.
badee kashmakash ke saath tere havaale to kar diya hai, khud ko mainne
magar jaane kya khyaalaat hai dil mein, jo mujhe tera hoke bhee tera hone nahin dete

hai..ye baarisho ka mausam hai, kahee dhoop to kahee chhaanv hai.
too chal jaroor raha hai, magar vajah tere hee paanv hai.
yoon jaan kee baajee kya lagaana,mittee ke putale ke lie,
jo dekh raha too shahar ko ,jabaki ghar tera to gaanv hai…

chal kastee ko too paar kar, thoda beech phir majhadaar kar.
le chal kinaare phir, jab khud kee teree naanv hai.
phir dekh raha shahar ko kyo,jabaki ghar tera to gaanv hai…


इश्क़ का व्यापार

महफ़िल है दिलजलों की , मैं भी बढ़ जाऊं क्या??
लगा के पर गमों के इन हवाओं में उड़ जाऊं क्या।
यूँ तो शौख हमे भी है गमे-इश्क़ को हल करना,
इशारा दो फिर, मैं चुनाव लड़ जाऊं क्या।।।

ISHQ KA VYAPAAR

mahafil hai dilajalon kee , main bhee badh jaoon kya??
laga ke par gamon ke in havaon mein ud jaoon kya.
yoon to shaukh hame bhee hai game-ishq ko hal karana,
ishaara do phir, main chunaav lad jaoon kya…

hindi chunaao shayari statusdairy.com


मैं शायर बदनाम हूं : 

वो अविभक्त चंचल मन सा, मैं एक उलझा सा काम हूं।
इत्र सुबह की किरणों सा, मैं ढलता हुआ एक शाम हूँ।।
वो ख़ुशी बांटती हलवाई, मैं ग़म का मारा जाम हूं।
”कविता” हुस्न कि रानी है, पर मैं “शायर” बदनाम हूं।।
वो रूप राज कि शहजादी, मैं बन कुमार सा श्याम हूं।

 शहरों का है नामकरण, मैं आवारा सा एक नाम हूं।
वो जीमेल सा डाकपत्र, मैं पक्षी का पैगाम हूं।
“कविता” हुस्न की रानी है, पर मैं “शायर” बदनाम हूं।।

वो इठलाती चंचल मन सी, मैं मंद मंद मुस्कान हूं।
बर्गर चाट बतासे सी, मैं बिन पैसे की दुकान हूं।
वो राजपत्र अधिकारी सी, मैं नौकर उनके समान हूँ।
“कविता” हुस्न की रानी है, पर “शायर” मैं बदनाम हूँ।!

MEIN SHAYAAR BADNAAM HUN | HINDI KAVITA

vo avibhakt chanchal man sa, main ek ulajha sa kaam hoon.
itr subah kee kiranon sa, main dhalata hua ek shaam hoon..
vo khushee baantatee halavaee, main gam ka maara jaam hoon.
kavita husn ki raanee hai, par main “shaayar” badanaam hoon..
vo roop raaj ki shahajaadee, main ban kumaar sa shyaam hoon.

shaharon ka hai naamakaran, main aavaara sa ek naam hoon.
vo jeemel sa daakapatr, main pakshee ka paigaam hoon.
“kavita” husn kee raanee hai, par main “shaayar” badanaam hoon..

vo ithalaatee chanchal man see, main mand mand muskaan hoon.
bargar chaat bataase see, main bin paise kee dukaan hoon.
vo raajapatr adhikaaree see, main naukar unake samaan hoon.
“kavita” husn kee raanee hai, par “shaayar” main badanaam hoon.!

HINDI POEMS
HINDI POEMS


Download Status Dairy App

Read More Hindi-poems

POEM ON CORONA VIRUS IN HINDI

As we that, in this lockdown status people are regularly posting on Corona. Our poet write also some poems on corona and related to the current situation in India.


कोरोना की घड़ी..!

सुबह और शाम अब तो
एक सी ही लगने लगी है
बिना भागदौड़ के
अब जिंदगी भी थकने सी लगी है,
खिड़की ना खोलो तो
दिन का पता ही नहीं चलता,
लगता है कि दीवार पर टंगी घड़ी
अब गलत टाइम देने लगी है।

CORONA KI GHADEE..!

subah aur shaam ab to
ek see hee lagane lagee hai
bina bhaagadaud ke
ab jindagee bhee thakane see lagee hai,
khidakee na kholo to
din ka pata hee nahin chalata,
lagata hai ki deevaar par tangee ghadee
ab galat taim dene lagee hai. 

                              

corona status | poem on corona virus | status dairy

                                                                            ✍️ कुमार विक्रम


kabhi-socha-na-tha-status-dairy

कभी सोचा ना था ऐसे भी दिन आएँगे..?

कभी सोचा ना था ऐसे भी दिन आएँगे
छुट्टीया तो होगी, पर मना नहीं पाएंगे
आइसक्रीम का मौसम भी होगा, पर खा नहीं पाएंगे
रास्ते खुले होंगे, पर जा नहीं पाएंगे
जो दूर रह गए उनको भुला नहीं पाएंगे
और जो पास हैं उनसे हाथ भी नहीं मिला पाएंगे
जो घर लौटने की राह देखते हैं, वह घर में बंद होंगे
जो घर लौटने की राह देखते हैं, वह घर में बंद होंगे…


जिनके साथ वक्त बिताने को तरसते थे उनसे भी ऊब जाएंगे..
क्या है तारीख, कौन सा है वार, यह भी भूल जाएंगे
कैलेंडर हो जाएगा बेमानी, बस यूं ही दिन बिताते रहेंगे
साफ हो जाएगी हवा, पर चैन की सांस नहीं ले पाएंगे
नहीं दिखेगी कोई मुस्कुराहट चेहरे सारे मास्क से ढक जाएंगे
जो खुद को सोचते थे बादशाह क्या वह भी कभी हाथ फैला आएँगे
क्या सोचा था यार कभी ऐसे भी दिन आएँगे ।।

KAVI SONCHA NA THA AISE V DIN AAYENGE..?

Kabhee socha na tha aise bhee din aaenge
chhutteeya to hogee, par mana nahin paenge
aaisakreem ka mausam bhee hoga, par kha nahin paenge
raaste khule honge, par ja nahin paenge
jo door rah gae unako bhula nahin paenge
aur jo paas hain unase haath bhee nahin mila paenge
jo ghar lautane kee raah dekhate hain, vah ghar mein band honge
jo ghar lautane kee raah dekhate hain, vah ghar mein band honge…

jinake saath vakt bitaane ko tarasate the unase bhee oob jaenge..
kya hai taareekh, kaun sa hai vaar, yah bhee bhool jaenge
kailendar ho jaega bemaanee, bas yoon hee din bitaate rahenge
saaph ho jaegee hava, par chain kee saans nahin le paenge
nahin dikhegee koee muskuraahat chehare saare maask se dhak jaenge
jo khud ko sochate the baadashaah kya vah bhee kabhee haath phaila aaenge
kya socha tha yaar kabhee aise bhee din aaenge ..

✍️ कुमार शुभम


कोरोना से लड़ना है हमको..!

ऐसा कुछ, करना है हमको!
कोरोना से लड़ना हमको!!
हाथ धो के पीछे पड़ जाओ!
घर में रहकर तुम लड़ जाओ!!
किसी से तुम न हाथ मिलाओ!
नमस्ते इंडिया तुम बन जाओ!!
बच्चों के संग समय बिताओ!
उत्तम सा कुछ ज्ञान बताओ!!
घर – घर उत्तम अलख जगाओ!
इस दुश्मन को ऐसे भगाओ!!
इसी तरह जंग करना हमको!
डरना नहीं है अब तो हमको!
कोरोना से लड़ना हमको, कोरोना
से लड़ना हमको., कोरोना से….
अखण्ड भारत ! विजयी भारत !

CORONA-SE-LADNA-HAI-HUMKO-STATUS-DAIRY

CORONA SE LADNA HAI HUMKO..!

aisa kuchh, karana hai hamako!
korona se ladana hamako!!
haath dho ke peechhe pad jao!
ghar mein rahakar tum lad jao!!
kisee se tum na haath milao!
namaste indiya tum ban jao!!
bachchon ke sang samay bitao!
uttam sa kuchh gyaan batao!!
ghar – ghar uttam alakh jagao!
is dushman ko aise bhagao!!
isee tarah jang karana hamako!
darana nahin hai ab to hamako!
korona se ladana hamako, korona
se ladana hamako., korona se….
akhand bhaarat ! vijayee bhaarat !


                                                                                    ✍️ – उत्तम सिंह


For more poems Download Status Dairy App

Read more Hindi poems