Popular Hindi Kavita Of All Time | Status Dairy

उलझन


कुछ बातें
कुछ यादें
ऐसी की समझ न पाऊँ ।
सोचती हूँ..
कैसे सुलझाऊँ ?
पर
जाती उलझ इस पहेली को सुलझाने में,
क्या है ?
क्यों है ?
कैसे है ?
कुछ समझ न पाऊँ,
अभी-अभी तो
निपटी थी सारी उलझनो से
पर गयी घिर पुनः
उसी चक्र में
तभी चमक उठी मेरी आँखों
समझ गयी मैं,
सारी बातें ।
जीवन है तो उलझने हैं
और
उलझने में सुलझना
ही तो जीवन है
मन की आस जगी
और
लगी सुलझने…
तब पाई में
उन पलो को
जो खुशियों के बिताये हमने,
क्योकिं
उन छोटी-छोटी पलो की,
जीना ही तो जीवन है ।
हाँ ! हाँ !
यही जीवन है


Uljhan


kuchh baaten
kuchh yaaden
aisi ki samajh na paun .
sochati hun..
kaise suljhaun ?
par
jaati ulajh iss paheli ko suljhane mein,
kya hai ?
kyon hai ?
kaise hai ?
kuchh samjh na paun,
abhi-abhi to
nipati thi saari uljhano se
par gayi ghir punah
usi chakkar mein
tabhi chamak uthi meri aankhon
samajh gayi main,
saari baatein
jivan hai to uljhane hain
aur
ulajhane mein suljhana
hi to jivan hai
man ki aas jagi
aur
lagi suljhane…
tab payi mein
un palo ko
jo khushiyon ke bitaye humne,
kyokin
un chhoti-chhoti palo ki,
jina hi to jivan hai .
haan ! haan !
yahi jivan hai..


साहस 


 

इस धरती पर चमन बना सकती हूँ,
विरानो में फूल खिला सकती हूँ,
एक बंजर जमीन का टुकड़ा दे कर देखो,
उस में भी उपवन उपजा सकती हूँ ।

साहस है, हिम्मत है,
हौसला मुझ में काफी है ।
कुछ कर दिखाने का,
जज्बा मुझ में बाकी है ।

मैंने हिम्मत कभी न हारी,
आंधी और तूफानों में ।
मेरी ताकत हमेशा बढ़ी है,
मुश्किल से टकराने में

संगी साथी सभी हमारे,
राह रोकने वाले है
सिर पे कफ़न बांध चले
हम हिम्मत के मतवाले है ।

क्या तुम साथ हमारा दोगे,
एक पेड़ लगाने में ?
वन, उपवन उपजाने में ?
धरती पर चमन बनाने में ?

धरती पर उपवन होगा
नहीं कहीं प्रदुषण होगा ।
बच्चे खेलेंगे भर किलकारी,
नयी सुबह है आने वाली ।।


SAHAS


 

iss dharti par chaman bana sakti hun,
virano mein phul khila sakati hun,
ek banjar jamin ka tukda de kar dekho,
uss mein bhi upvan upja sakti hun..

sahas hai, himmat hai,
hausla mujh mein kafi hai..
kuchh kar dikhane ka,
jajba mujh mein baki hai..

maine himmat kabhi na hari,
andhi aur tufano mein..
meri takat hamesha badhi hai,
mushkil se takrane mein

sangi sathi sabhi hamare,
rah rokane vale hai
sir pe kafan bandh chale
ham himmat ke matvale hai..

kya tum sath hamara doge,
ek ped lagane mein ?
van, upvan upjane mein ?
dharati par chaman banane mein ?

dharti par upvan hoga
nahi kahin pradushan hoga..
bachche khelenge bhar kilakari,
nayi subah hai ane vali..

 


Read more:-

Popular hindi kavita of all time

BEST HINDI POEM COLLECTION

HINDI POETRY – बेवज़ह अब मुस्कुराना आसान नही

HINDI KAVITA | ज़िंदा रावण बहुत पड़े हैं।

Leave a Comment