Love is eternal it is something is can’t be expressed in words it is the purest form of trust between two souls.

Aashik ki dubidha

Dillagi ka aalam kya bataye ham ,
tanhaiyo ke mausam me kise sataye ham ,
khuda jise mana hamne kambaqt is ishak me ,
wo hi jab hai rutha hamse to bataiye hame ,
kise jaa kar ab rijhaye ham  .

 

आशिक की दुविधा

दिल्लगी का आलम क्या बताये हम ,

तनहाइयो के मौसम में किसे सताए हम ,

खुदा जिसे माना हमने कम्बक्त इस इश्क़ में ,

वो ही जब है रूठा हमसे तो बताइये हमें ,

कीसे जा कर अब रिझाये हम ।

 

Ek premika aur ek premi 

kya kahu unki baat hi nirali hai ,
jahaa jaaye wo wahi hariyali hai ,
ham to kambaqt registaan se ho gaye ,
jahaa bhi gaye wahi bhul-bhulaiye me kho gaye .

 

एक प्रेमिका और एक प्रेमी

क्या कहु उनकी बात ही निराली है ,

जहा जाए वो वही हरियाली है ,

हम तो कम्बक्त रेगिस्तान से हो गए ,

जहा भी गए वही भूल-भुलैये में खो गए ।

 

Aashiki ka junun

Maanaa ki zid ab karta nahi ,
par ziddi wahi purana hu ,
haa tere piche jana chhor diya ,
par ab bhi tera deevana hu .

 

आशिकी का जुनून

माना की ज़िद अब करता नहीं ,

पर ज़िद्दी वही पुराण हु ,

हा तेरे पीछे जाना छोर दिया ,

पर अब भी तेरा दीवाना हु ।

 

saccha aashik

Ho agar manjur unhe ,
to saath chalenge umr bhar ,
aur gar jo hogi unki kaamna ,
to ham ban sakenge hamsafar .

 

सच्चा आशिक

हो अगर मंजूर उन्हें ,

तो साथ चलेंगे उम्र भर ,

ओर गर जो होगी उनकी कामना ,

तो हम बन सकेंगे हमसफ़र ।

 

haay ye julfen teri ,
lehrati ,balkhati ,itrati hai,
sama to kya shamme me bhi ,
raushni bikher den kyuki ,
piche inke nigahe jo teri sharmati hai .

 

हाय ये जुल्फें तेरी ,

लेहराती , बलखाती ,इतरती है,

समा तो क्या शम्मे में भी ,

रौशनी बिखेर दें क्युकी ,

पीचे इनके निगाहे जो तेरी शर्माती है ।

                            कवि – अमन जी