Tag: hindi poem 2020

Latest Hindi Poem PART 2 – AANKHO SE APNE

latest Hindi poem PART 2 by AMANJEE SINGH “.
creating new poem on love that can be so vast and expressive.
latest hindi poem part 2 consists all of the feeling so enjoy the followings.


AANKHO SE APNE

Aankho se apne,
Yu ashak na chalkao,
Meri lakshmi ho na,
Has kar mere paas aao,
Ruthi ho gar jo mujhse,
To phle galti to batlao,
Aankho me yu aansu bhar kar,
Dil ko challi na karwao.
Yaad rakho hmesa,
Muskaan tumhari ek paa kar,
Thakaan sari bhulate hai,
Aur ankho me rakhti ho ashak ,
Sayad khus hm tumhe na rakh paate hai,
Gar aisa hai to batlao,
Kami ka mere aabhas mujhe karao,
Par yu ashko ko baha kar,
Dil ko mere challi mat karwao..

आँखों से अपने

आँखों से अपने,
यूँ अश्क ना छलकाओ,
मेरी लक्ष्मी हो ना,
हस कर मेरे पास आओ,
रूठी हो गर तो बतलाओ,
आँखों में यूँ आशु भर कर,
दिल को छल्ली ना करवाओ..
याद रखो हमेशा,
मुस्कान तुम्हारी एक पा कर,
थकान साड़ी भुलाते है,
और आँखों में रखती हो अश्क,
सायद खुस हम तुम्हे ना रख पाते है,
गर ऐसा है तो बतलाओ,
कमी का मेरे आभास मुझे कराओ,
पर यु अश्को को बहा कर,
दिल को मेरे छल्ली मत करवाओ..

hindi poem status dairy


KAHA THA HUMNE KALIYO SE

Kaha tha humne kaliyo se,
Ki phul ban kar tum itrana,
Aayengi jab mehbooba meri,
Raaho me khud hi jhuk jana,
Par kch kaliyo ne najane kya tha thana,
Na dil behlaya na hi raah,
Mere mehboob ka sajaya,
Aur batlaya tha hmne to,
Un khushnuma baharo se,
Na jaane wo kaise sarma gaye,
Sajaya tha hmne apne ghar ko,
Ulfat ke haseen nazaro se,
Par kya kahu mai dosto,
Meri kosise dhari reh gayi,
Mili jo unse nazar to lari reh gayi,
Aur wo bahar aur ful kya krenge,
Wo dhare ke dhare reh gaye,
Aur ghire jab hm unke yaad me,
Baho me hi pare reh gaye,
Beet gayi ghariya kitni,
palat gaya mera sansaar,
Ek paa kar unko laga,
jaise paa liya sansaar,
Maa si mamta thi unme,
Dosto sa tha unka saath,
Dil ko behla mere unhone,
Bhar diya unke liye unhone pyaar.

कहा था हमने कलियों से

कहा था हमने कलियों से,
की फुल बन कर तुम इतराना,
आयेंगी जब महबूबा मेरी,
रोहों में खुद ही झुक जाना,
पर कुछ कलियों ने ना जाने क्या था ठाना,
ना दिल बहलाया न ही राह,
मेरे महबूब का सजाया,
और बतलाया था हमने तो,
उन खुशनुमा बहारो से,
ना जाने वो कैसे शर्मा गए,
सजाया था हमने अपने घर को,
उल्फत के हसीन नज़रों से,
पर क्या कहु मैं दोस्तों,
मेरी कोसिसे धरी रह गयीं,
और वो बहार और फुल क्या करेंगे,
वो धरे के धरे रह गए,
और घिरे जब हम उनके याद में,
बहों में ही पड़े रह गए,
बीत गयी घड़ियाँ कितनी,
पलट गया मेरा संसार,
एक पा कर उनको लगा,
जैसे पा लिया संसार,
माँ सी ममता थी उनमे,
दोस्तों सा था उनका साथ,
दिल को बहला मेरे उन्होंने,
भर दिया उनके लिए उन्होंने प्यार..

hindi poem status dairy


For more poem: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem

For interesting blogs visit here: https://jagatgyaan.in/

LATEST HINDI POEM | PADHTI HAI | ABHI BAKI HAI

Here are some of the best and latest Hindi Poems presented by Vikram. First poem enlights how her lover reads his feelings and what she feels about it.
Second Poem reminds everyone should not stop with small failures in life.


पढ़ती है 

मैं खुली किताब समझता हूँ तन को
वह मेरी नैनो की मेरी इजाज़त से पढ़ती है
तर्क-ए-तअल्लुक को वजह क्या लिखूं
कभी शराफत से कभी शरारत से पढ़ती है,
कहा करता हूँ मशक्कत अपनी कलम से
जो भी लिखू , उसे वह इनायत से पढ़ती है,
जिक्र जार छुट जाये, ऊँ कत्थई आँखों का
वह मेरी गजलों को, शिकायत से पढ़ती है,
विक्रम का सब लिखा, तुम से ही मंसूब है
मुझे सारी दुनिया तेरी बदौलत से पढ़ती है..

Padhti hai

wah mere naam ko bade hidayat se padhati hai
kabhi tasbih mein kabhi aayat se padhati hai,
main khuli kitab samajhta hoon tan ko
wah meri naino ko meri ijazat se padhati hai
tark-e-talluk ki vajah kya likhoon
kabhi sharafat se kabhi shararat se padhati hai,
kaha karta hoon mashakkat apni kalam se
jo bhi likhu, use wah inayat se padhati hai,
jikr jar chhut jaye, unn katthi ankhon ka
wah meri gajlon ko, shikayat se padhati hai,
vikram ka sab likha, tum se hi mansub hai
mujhe sari duniya teri badaulat se padhati hai ||

पढ़ती है 


अभी बाकी है 

गुजर रही हैं उम्र,
पर जीना अभी बाकी है..
जीन हालातों ने पटका जमीं पर,
उन्हें उह्त्कर जवाब देना अभी बाकी है..
चल रहा हूँ मंजिल के सफ़र में,
मंजिल को पाना अभी बाकि है..
कर लेने दो लोगों को चर्चा मेरे हार की,
कामयाबी का शोर मचाना अभी बाकी है..
वक़्त को कर देने दो अपनी मनमानी,
मेरा वक़्त आना अभी बाकी है..
समझ बैठे जो मुझे कमजोर,
ऊँ सबको जवाब देना बाकी है..
निभा रहा हूँ अपना किरदार, जिंदगी में मंच पर,
पर्दा गिरते ही, तालियाँ बजना अभी बाकी है..
कुछ नहीं गया हाथ से अभी तो
बहोत कुछ पाना बाकी है..


Abhi baki hai

Gujar rahi hain umr,
par jina abhi baki hai..
jin halaton ne pataka jamin par,
unhen uhtkar jawab dena abhi baki hai..
chal raha hoon manjil ke safar mein,
manjil ko pana abhi baki hai..
kar lene do logon ko charcha mere har ki,
kamayabi ka shor machana abhi baki hai..
vaqt ko kar dene do apni manamani,
mera vaqt aana abhi baki hai..
samjh baithe jo mujhe kamjor,
unn sabko jawab dena baki hai..
nibha raha hoon apna kirdar, jindagi mein manch par,
parda girate hi, taliyan b

ajna abhi baki hai..
kuchh nahin gaya hath se abhi to
bahot kuchh pana baki hai ||

abhi baki hai status dairy


For more Poem visit here: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem

For interesting blogs visit here: https://jagatgyaan.in/