Tag: latest hindi kavita

HAM HIND DESH KE WAASI HINDI KAVITA 2021 BY POET AMAN JEE

Is kavita ke madhyam se kavi apne desh ke

prati apne bhaaw prakat karna caahte hai ,

We batana cahte hai ki ham kaise wata

waran me pale badhe hai aur sirf swabhiam

Se jeete hai aan se jeete hai…….

HAM HIND DESH KE WAASI HINDI KAVITA 2021 BY POET AMAN JEE

 


HAM HIND DESH KE WAASI


Ham dare nahi ham date rahe ,

ham chatton se atal rahe ,

hain veer wahi jo dheer dhare ,

muskilo se ham khub laren ,

tab jaa kar hmne hai ye aajadi paayi ,

hind desh ke veer saput hai ham ,

aapas me sab bhai bhai ,

kuch matbhedo ne luto hamko ,

kuch thi hamari bhi laparwahi ,

warna aaj aise na hote hai ,

aur us aajadi ke yudh me ,

itne veeron ko na khote ham ,

aaj mana rahe hai aajadi ham ,

un tamam veero ke aan par ,

sawarnim tha itihas hamara ,

gaurav saali hai hamara naam ,

hi d desh ke vaasi hai ham ,

sampurn iswa me hai kafi ye naam ,

he bharat mata dhayan hai tu ,

sish nawa kar karte pranam .

 

 

 

हम डरे नहीं हम डेट रहे ,

हम चट्टों से अटल रहे ,

है  वीर वही जो धीर धरे ,

मुस्किलो से हम खूब लड़े ,

तब जा कर हमने है ये आज़ादी पायी ,

हीन्द देश के वीर सपूत है ,

हम आपास में सब भाई–भाई ,

कुछ मतभेदो ने लूटा हमको ,

कुछ थी हमारी भी लापरवाही ,

वार्ना आज ऐसे न होते हम ,

ओर उस आजादी के युद्ध में ,

इतने वीरों को न खोते हम ,

आज माना रहे है आजादी हम ,

उन तमाम वीरो के आन पर ,

स्वर्णीम था इतिहास हमारा ,

गौरव साली है हमारा नाम ,

हिंद देश के वासी है हम ,

सम्पुर्ण विस्व में है काफी ये नाम ,

हे भारत माता धन्य है तू ,

शीश नवा कर करते प्रणाम ।।।

 


Suraksha ko tainaat hai ,

Ghar se dur hokar apne ,

We hamari mitti ke saath hai ,

Jehlte har aandhi har tufaan ko ,

Veer saput hamari mata ke ,

Ham sabhi ka swabhimaan hai ,

We aur koi nahi liye pran hatheli par ,

Har samay satark hamare sabhi jawaan hai .

 


 

POET – AMAN JEE

TUJHE BHULA NAHI SAKTE – O BEKHABAR (KAVITA)


iss kavita ke madhyam se kavi is jag ko apane dil ka hal bayan karna chahte hai, ki akhir kis tarah vo akelepan se lar kar ji rahe hai, kis tarah unhen as–pas ki chize unake masuka ke sath bitaye hue pal ko yaad karti hain, ve bar bar bhulana kahate hai bar unhen bhulane nahi deti hai duniyan.

 

हम तुझे भुला नहीं सकते

तू मिले या ना मिले

तू चाहे न चाहे मुझे

तू पूछे ना खै़रीयत मेरी

तू भले न पहचाने मुझे

ये सख्तियां, नादानियां

इस दिल को बता नहीं सकते

हम तुझको भुला नहीं सकते


तू सोए गैर की बाहों में

तू घूमे मस्त बहारों में

हम रोएं रातों सिसक सिसक

दिल भटके तेरी यादों में

ये इश्किय
ख़ुद पर आज़मा नहीं सकते

हम तुझको भुला नहीं सकते


जो ख्वाब देखे थे कभी

मिलकर हमने रातों में

कहा था साथ निभाएंगे


is kavita ko kavi ek madhyam bana kar apni masuka ko vapas apane pas bulana chahte hai, beete hue kuchh hasin lamhon ko yad kara kar kavi unke soye hue armanon ko jagane ki kosis kar rahe hai, unke patthar bane hue dil ko phir us mom ki tarah banna chahte hai, kavi apne purane pyar ko phir ek bar pana chahate hai.

 

ओ बेखबर

ओ बेखबर ,बेदर्द जालिम और न आज़मा

पुकारे तेरा आशिक आजा लौट आ वापिस आ

गुज़रे लम्हे ,बीते बरस पर पहले जैसी बात नहीं

दिन का चैन बचा नहीं , सुकूँ की कोई रात नहीं

सूखे होठ हैं बिन हँसी के आखें सूझी हो नमी से

आसमाँ है रूठा सा बंज़र दिल की जर्द जमीं से


पत्थर दिल पिघला ले अब फिर मोम सा बन जा

पुकारे तेरा आशिक आजा लौट आ वापिस आ


क्या याद तुझे सीने से लगकर रात कटी थी बाहों मे

क्या याद तुझे मुझे लगी थी ठोकर चलती राहों में

तू मरहम सा बनकर मेरे हर दर्द से लड़ा था

जाया थी जिंदगी मेरी,तू हर मोड़ पे खड़ा था


याद कर पिछले जमाने ,आजा प्यार के नग्मे गाने

की जुल्मो-सितम न ढा, इश्क़ और न आज़मा

पुकारे तेरा आशिक आजा लौट आ वापिस आ


ओ बेखबर बेदर्द ज़ालिम ओर न आजमा

पुकारे तेरा आशिक आजा लौट आए वापिस आ


For more hindi poem: https://statusdairy.com/poetry/hindi-poem

For interesting blog: http://blog.graminbharti.org